पहली ही फिल्म से दर्शकों के दिलों पर छा गयी थी ये एक्ट्रेस, आज है गुमनाम

3,903

1985 में आयी अपनी पहली ही फिल्म ‘राम तेरी गंगा मैली’ से दर्शकों के दिलों पर छा जाने वाली मन्दाकिनी महज 16 साल की उम्र में हीरोइन बन गयी थी। मेरठ में ईसाई पिता और मुस्लिम माँ के घर जन्मी मन्दाकिनी के बचपन का नाम यास्मीन जोसफ था। फिल्मों में काम उन्होंने छोटी उम्र में ही शुरू कर दिया था। बंगाली फिल्म ‘अंतरर भालोबाशा’ से अपना करियर शुरू करने वाली मन्दाकिनी को उनकी पहली हिंदी फिल्म ‘राम तेरी गंगा मैली’ ने रातों रात फेमस कर दिया। इस फिल्म के लिए मंदाकिनी को फिल्मफेयर में बेस्ट एक्ट्रेस के लिए नॉमिनेट भी किया गया था।

बोल्ड सीन से नहीं किया परहेज

अपनी पहली ही फिल्म में ही मंदाकिनी ने बोल्ड सीन देने से परहेज नहीं किया। उस फिल्म के कुछ बोल्ड सीन्स को तो दर्शक आज तक नहीं भूले हैं। राजकपूर अपनी हीरोइन्स को बोल्ड रूप में पेश करने में माहिर थे, उनकी फ़िल्में बोल्ड होते हुए भी काफी क्रिएटिव होती थी। मंदाकिनी को भी उन्होंने अपनी फिल्म में बोल्ड और संजीदा रोल में ऐसे पेश किया कि मंदाकिनी रातों रात स्टार बन गयी। आइयें देखते हैं कि 90 के दशक की ये स्टार अदाकारा अभी किस हाल में हैं :

दी कई हिट फ़िल्में

80 और 90 के दशक में कई हिट फ़िल्में देने के बाद मंदाकिनी को लेकर कई अफवाएं भी उड़ी। उन्हें दाऊद की गर्लफ्रेंड कहा जाने लगा और ये भी आरोप लगे की दाऊद के कहने पर ही उन्हें सब फ़िल्में मिली हैं। हालाँकि मंदाकिनी ने इन ख़बरों को हमेशा गलत बताया। लेकिन इसी वजह से उन्हें काम मिलना भी बंद हो गया। उस दौर में दाऊद से बॉलीवुड में सभी डरते थे और दाऊद की गर्लफ्रेंड को अपनी फिल्म के लेकर कोई रिस्क नहीं लेना चाहता था। 1996 में आयी ‘जोरदार’ फिल्म उनके करियर की अंतिम फिल्म साबित हुई जिसके बाद उन्होंने संन्यास ले लिया।

शादी कर घर बसाया

बाद में एक बौद्ध भिक्षु रह चुके बहुत ही जाने माने डॉक्टर टी. रिनपोचे ठाकुर से शादी कर के ग्रहस्ती संभाल ली। इसके बाद उन्होंने बॉलीवुड से दूरी बना ली और फिर मुड़ कर उस तरफ नहीं देखा। आज मंदाकिनी-रिनपोचे की एक बेटी राबजी इनाया ठाकुर हैं।

हुआ था दर्दनाक हादसा भी

साल 2010 में एक बुरे हादसे का भी शिकार होना पड़ा जब इनके बेटे राबिल ठाकुर की सड़क दुर्घटना में मौत हो गयी थी। अभी मंदाकिनी मुंबई में अपने पति के साथ एक हाउस वाइफ का रोल निभा रही हैं। हालॉंकि मंदाकिनी एक योगा कम तिब्बती हर्बल सेण्टर भी चलाती हैं और वे दलाई लामा की फॉलोवर भी हैं।

Loading...