श्री कृष्ण को इस श्राप से बचाया था सुदामा ने और सारी ज़िन्दगी रहे थे गरीब – ये होती है मित्रता

204